SBI बैंक के बचत खाते पर न्यूनतम बैलेंस अनिवार्यता खत्म जानें पूरी खबर

नमस्ते स्वागत है, आपका आज की खबर है स्टेट बैंक ऑफ इंडिया SBI से जुड़ी हुई है। अगर स्टेट बैंक ऑफ इंडिया में आपका खाता है तो आपके लिए हमारे पास बहुत ही काम की खबर है। 

इन दिनों बैंकिंग को लेकर जो खबरें आ रही है वो अच्छी नहीं है परंतु हमारी कोशिश रहती है, कि हर तरह की खबर आपके सामने पेश करें तो चलिए हम आपको बताते हैं कि एसबीआई बैंक ने तीन कौन से बड़े फैसले लिए हैं ।

SBI बचत खाते पर न्यूनतम बैलेंस अनिवार्यता खत्म जानें पूरी खबर

1. जीरो बैलेंस पर जुर्माना नहीं लगेगा
2. एसएमएस सीमा पर लगने वाला शुल्क खत्म
3. बचत खाते पर कम ब्याज मिलेगा।

एसबीआई बैंक में करीब साढ़े 44 करोड़ खाता धारको से जुड़े तीन बड़े फैसले लिए हैं। इनमें से दो फैसले लोगों के चेहरे पर मुस्कान लाने वाले जबकि तीसरा फैसला निराश कर सकता है।

पहले फैसले की बात करें तो इसमें स्टेट बैंक ऑफ इंडिया ने बचत खाते में न्यूनतम बैलेंस की अनिवार्यता खत्म कर दी है। यानी अब अकाउंट में जीरो बैलेंस होने पर भी जुर्माना नहीं लगेगा। इन फैसलों से पहले मेट्रो शहरों में ₹3000, कस्बों में ₹2000 व  ग्रामीण इलाकों में ₹1000 रुपए की न्यूनतम राशि बचत खाते में रखनी होती थी। न्यूनतम राशि नहीं रखने पर उन्हें 5 -15 रुपए तक का जुर्माना देना पड़ता था।
एसबीआई बैंक ने तीसरे फैसले के तहत एसएमएस सेवा के लिए हर तीन माह में देने वाला शुल्क खत्म कर दिया है।
वहीं तीसरा फैसला बचत खाताधारकों के लिए एक झटका है। इस फैसले में एसबीआई बैंक ने बचत खाते पर ब्याज दर में 0.25% कटौती की है यानी अब बचत खातों पर 3% ब्याज मिलेगा। कुल मिलाकर देखा जाए तो एसबीआई बैंक ने अपने ग्राहकों को एक हाथ से दिया है, तो दूसरा हाथ से वापस ले लिया है।
2017 में एसबीआई बैंक खाते में न्यूनतम राशि नहीं रखने वाले खाता धारकों पर जुर्माना लगाया। एसबीआई बैंक ने अप्रैल-नवंबर 2017 के बीच 1771 करोड रुपए जुर्माने में कमाए थे वहीं जुलाई-सितंबर 2017 में न्यूनतम राशि न रखने पर 1581करोड़ रुपए की वसूली की थी।

bharatgurjar

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *